खनिज माफियाओं की रसूख के आगे झुकी निगरी पुलिस,ग्रामीणों का बड़ा आरोप : रेत लोड हाईवा पकड़ने के बाद बिना कार्यवाही किए 20 घंटे बाद छोड़ दिया।। कुंडेश्वर टाइम्स ब्यूरो अनुराग द्विवेदी की रिपोर्ट

0
253

9:30 बजे रात ग्राम वासियों ने हाईवा पकड़ कर पुलिस को किया था सुपुर्द 10:56 बजे काटी गई टीपी

देवसर(kundeshwartimes)- सिंगरौली जिले के देवसर अनुभाग अंतर्गत पुलिस चौकी निगरी के ऊपर रेत लोड हाईवा को बिना कार्रवाई किए छोड़ने का गंभीर आरोप लगाया जा रहा है, मामला बुधवार की रात का बताया जा रहा है, जानकारी के अनुसार एक एम पी 53 एच ए 2390 नंबर का हाईवा निगरी रेत खदान से करीब 9:30 बजे रात रेत लोड कर जा रहा था, निगरी सहित आसपास के लोगों ने हाइवा रोकवाकर ड्राइवर से टीपी की जानकारी लेनी चाही,लेकिन ड्राइवर ने टीपी नही दिखाया,बल्कि ग्राम वासियों से विवाद करने लगा,तभी ग्रामवासी निगरी पुलिस को सूचना दे दिए,बताते हैं कि सूचना मिलने के करीब एक घंटे बाद निगरी पुलिस मौके पर पहुंची,मामला गरम होते देख हाइवा को चौकी लाया गया,फिर अगले दिन गुरुवार को बिना कार्यवाही किए शाम पांच बजे छोड़ दिया गया

ग्रामीणों द्वारा हाइवा पकड़ने के डेढ़ घंटे बाद कटी टीपी

इस संबंध में निगरी सरपंच तथा उप सरपंच सहित कई लोगों ने बताया कि रेत लोड हाईवा बुधवार की रात करीब 9:30 बजे पकड़ा गया था और टीपी रात 10:56 बजे काटी गई थी,फिलहाल बिना कोई कार्यवाही किए रेत लोड हाईवा छोड़ देने से निगरी पुलिस के प्रति आसपास के ग्रामीणों में खासा आक्रोश व्याप्त है

जब टीपी था तो 20 घंटे तक चौकी में क्यों खड़ा करवाए थे हाईवा

इस पूरे मामले में निगरी पुलिस सवालों के कटघरे में खड़ा हो रही है क्योंकि निगरी पुलिस और माइनिंग की टीम यह बता रही है कि हाईवा में रेत का परिवहन करने के लिए लीगल टीपी काटी गई थी ऐसे में सवाल यह खड़ा होता है कि जब टीवी काटी गई थी तथा रेत लोड हाईवा को परिवहन करने के लिए परमिशन प्राप्त था तो रात 10:00 बजे से लेकर अगले दिन शाम 5:00 बजे तक निगरी चौकी में हाईवा खड़ा करवाने की क्या आवश्यकता थी ऐसी स्थिति में गाड़ी मालिक का भारी नुकसान हुआ है तथा परेशानी भी हुई है अब इसका जिम्मेदार कौन होगा, हालांकि ग्राम वासियों के अनुसार इस मामले में सच्चाई यह है कि रेत लोड हाईवा बिना टीपी का ही परिवहन कर रहा था, जिसे ग्राम वासियों ने रुकवा लिया तथा निगरी पुलिस को सुपुर्द करने के बाद मामला गंभीर होते देख चालक ने आनन फानन टीपी जारी करवा लिया अब जांच का विषय यह है कि हाईवा कितने बजे पकड़ा गया था तथा टीपी कितने बजे काटी गई थी जांच में पूरा मामला अपने आप स्पष्ट हो जाएगा

रेत माफियाओं को संरक्षण देने का गंभीर आरोप

इस पूरे मामले में आसपास के दर्जनों ग्राम वासियों ने निगरी पुलिस के ऊपर रेत माफियाओं को संरक्षण देने का गंभीर आरोप लगाया है आरोप लगाए जा रहे हैं कि ग्राम वासियों द्वारा बिना टीपी के ही परिवहन कर रहे हाईवा पकड़कर निगरी पुलिस को सुपुर्द किया गया था लेकिन निगरी पुलिस रेत माफियाओं के दबाव में आ गई या जो भी वजह हो लेकिन बिना कार्यवाही किए 20 घंटे बाद हाईवा छोड़ दिया गया

निष्पक्ष जांच हुई तो कईयों पर गिरेगी गाज

इस पूरे मामले में ग्राम वासियों का आरोप है कि यदि निष्पक्ष जांच हुई तो कईयों पर गाज गिरेगी बताते हैं कि सबसे पहले निगरी पुलिस कार्रवाई की चपेट में आएगी क्योंकि निगरी पुलिस ने ही रेत लोड हाईवा को प्रथम दृष्टया टीपी ना पाए जाने पर तत्काल कार्यवाही नहीं किया गया, इसके अलावा यह भी जांच के दायरे में होगा कि जिस खदान से टीपी काटी गई थी तो संबंधित हाईवा को बिना स्थल पर खड़ा किए ही टीपी कैसे काट दिया गया
साथ ही यह भी देखने वाली बात होगी कि माइनिंग की टीम को इस पूरे मामले में जांच करने की आवश्यकता क्यों नहीं पड़ी जब 20 घंटे तक हाईवा निगरी पुलिस चौकी में खड़ा था इस दौरान अपने आप संवेदनशील एवं गंभीर स्थिति बनने की संभावना होती है लेकिन माइनिंग टीम चौकी पहुंचते ही आनन-फानन 5 मिनट बाद हाईवा कैसे छूट गया यह भी जांच का विषय है

ओवरलोड भी था हाईवा

बिना टीपी के रेत का परिवहन तो करने के आरोप लग ही रहे थे साथ ही हाईवा में रेत ओवरलोड भी किया गया था, फिर भी जिम्मेदारों को कार्यवाही करने के लिए कोई गलती नहीं नजर आई

इनका कहना है

निगरी पुलिस चौकी में रेत लोड हाईवा पकड़ कर खड़ा किया गया है,तथा माइनिंग विभाग को सूचना दे दी गई है,माइनिंग विभाग द्वारा आगे की कार्यवाही की जाएगी

मो यूसूफ कुरैसी

पुलिस अधीक्षक सिंगरौली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here